Sat. Jul 20th, 2024

मैच में पंजाब किंग्स की हार: एक विस्फोटक रोमांच

By Shubham Sharma Apr10,2024

क्रिकेट मैच देखना किसी खिलाड़ी का दिल की कमजोरियों को निकालने का एक अच्छा तरीका हो सकता है, SRH vs PBKS मैच में जो रोमांच होता है वही सबसे महत्वपूर्ण है। यदि हम कुछ इस प्रकार की बात करें, तो 2014 से 2024 तक के पिछले दस सालों में सबसे रोमांचक मुकाबले पंजाब किंग्स ने ही खेले हैं। पिछली रात हुए मैच में भी कुछ ऐसे ही दृश्य थे।

टॉस

पंजाब किंग्स के कप्तान शिखर धवन ने टॉस जीतकर गेंदबाजी का निर्णय लिया, लेकिन किसी हद तक ट्रेविस हेड ने कैगिसो रबाडा को तीसरे ओवर में चौकों के माध्यम से उसका निर्णय गलत साबित किया। चौथे ओवर में अर्शदीप सिंह ने ट्रेविस हेड को दूसरी गेंद पर और मार्क्रम को चौथी गेंद पर बिना खाता खोले मारक्रम को आउट किया।

पावरप्ले SRH

हैदराबाद ने पावरप्ले में 40 रन का लक्ष्य सेट किया, लेकिन उनके विकेट नियमित अंतराल पर गिरते रहे। पंजाब के अर्शदीप सिंह ने एक ही ओवर में अब्दुल समद और नीतीश रेड्डी को आउट कर मैच में परिवर्तन लाया। अंत में हैदराबाद 182 रन पर पहुंचे।

Punjab की तरफ से रबर ने 32 रन देकर एक विकेट, करण ने 41 रन देकर दो विकेट, और हर्षल पटेल ने 30 रन और दो विकेट लिए। बोलिंग की हाइलाइट्स अर्शदीप सिंह के चार ओवर 29 रन और चार विकेट रहे।

पंजाब की बल्लेबाजी

पंजाब की बल्लेबाजी अच्छी नहीं चली। पावरप्ले में तीन विकेट गिर गए, और टीम 27 रन पर खड़ी थी। अंत में शशांक सिंह के 15 रन के छक्के से मैच जीता गया, लेकिन वह दो रन से हार गए।

यह मैच सनराइजर्स हैदराबाद की Run के मामले में सबसे करीबी जीत है। इस मैच की सबसे बड़ी हाइलाइट्स नीतीश रेड्डी, अर्शदीप सिंह, आशुतोष शर्मा, और शशांक सिंह थे।

पंजाब किंग्स के मैच की बाल्लेबाजी अच्छी नहीं चली और उन्हें मैच के दौरान कई मुश्किलें आईं। पहली पारी में जॉनी बैरिस्टो, प्रभसिमरन सिंह, और शिखर धवन पावर प्ले के दौरान अपने विकेट गंवा दिए। पंजाब के पावर प्ले में तीन विकेट गिरने के बाद, तीम को 27 रन के साथ तीन विकेट का नुकसान हुआ। करण और सिकंदर राजा ने कुछ रन बनाने की कोशिश की, लेकिन उनकी पारी भी खासी अच्छी नहीं चली। अंत में, मैच का बोझ शशांक सिंह और आशुतोष शर्मा के कंधों पर आ गया, लेकिन उन्हें भी टीम को जीत नहीं लाने में कामयाब नहीं हो पाया।

पंजाब को मैच जीतने के लिए आखिरी तीन ओवर में 50 रन की जरूरत थी। लेकिन वह अपने बोलिंग की मजबूती को ध्यान में रखते हुए जयदेव उनादकट, नटराजन, और आशुतोष शर्मा के बोलिंग के आगे झुक गए। आखिरी ओवर में, शशांक सिंह ने चार बॉल्स में 15 रन की इक्वेशन लाई, लेकिन उनकी कोशिश भी नगावार साबित हुई। तीन बॉल बाकी रहते हुए, उन्होंने एक छक्का मारकर मैच को खत्म किया, लेकिन दो रन से हार गए।

इस मैच की सबसे बड़ी हाइलाइट्स में SRH नीतीश रेड्डी, अर्शदीप सिंह, आशुतोष शर्मा, और शशांक सिंह थे, जिन्होंने टीम की संघर्ष को उजागर किया।

By Shubham Sharma

I m a prolific writer specializing in sports and crime. Icontributes insightful articles to Samachar Patrika and Jansamuh, blending facts with engaging storytelling. https://samacharpatrika.com/ https://jansamuh.com/

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *