Sat. Jul 20th, 2024

काली खांसी का घातक हमला! जानिए कैसे बचाएं अपने बच्चों को ?

By kamal Apr12,2024
Whooping CoughWhooping Cough

काली खांसी: लक्षण, कारण, बचाव और इलाज (Whooping Cough: Symptoms, Causes, Prevention and Treatment)

Whooping Cough काली खांसी, जिसे पर्टुसिस (Pertussis) भी कहते हैं, श्वसन तंत्र को प्रभावित करने वाला एक अत्यधिक संक्रामक रोग है। यह मुख्य रूप से बच्चों को प्रभावित करता है, लेकिन वयस्क भी इससे संक्रमित हो सकते हैं।

लक्षण (Symptoms)

काली खांसी( Whooping Cough) के लक्षणों में आमतौर पर तीन चरण होते हैं:

  • प्रथम चरण (1-2 सप्ताह): इस चरण में लक्षण हल्के होते हैं और एक सामान्य सर्दी से मिलते-जुलते हैं, जिनमें शामिल हैं:

    • हल्का बुखार
    • बहती नाक
    • आंखों में पानी आना
    • हल्की खांसी
  • द्वितीय चरण (1-6 सप्ताह): यह चरण सबसे गंभीर होता है और इसमें शामिल हैं:

    • तेज और लगातार खांसी, जो कई हफ्तों तक रह सकती है। खांसी के दौरे के दौरान व्यक्ति को सांस लेने में कठिनाई हो सकती है और एक तेज, सीटी बजने जैसी आवाज भी आ सकती है (इसी वजह से इसे काली खांसी कहा जाता है)।
    • उल्टी
  • तृतीय चरण (सप्ताहों या महीनों तक): इस चरण में खांसी की गंभीरता धीरे-धीरे कम हो जाती है, लेकिन कभी-कभी हफ्तों या महीनों तक खांसी रह सकती है।

कारण (Causes) Whooping Cough

काली खांसी बोर्डेटेल्ला परट्यूसिस (Bordetella pertussis) नामक बैक्टीरिया के कारण होती है। यह बैक्टीरिया हवा में फैलता है जब कोई संक्रमित व्यक्ति खांसता या छींकता है। श्वसन तंत्र के माध्यम से यह बैक्टीरिया शरीर में प्रवेश कर जाता है।

जटिलताएं (Complications)

यदि काली खांसी का इलाज नहीं किया जाता है, तो यह गंभीर जटिलताएं पैदा कर सकती हैं, जिनमें शामिल हैं:

  • निमोनिया (Pneumonia)
  • दौरे (Seizures)
  • मस्तिष्क क्षति (Brain damage)
  • मृत्यु (Death) (विशेष रूप से शिशुओं में)

बचाव (Prevention): Whooping Cough

काली खांसी से बचाव का सबसे अच्छा तरीका टीकाकरण (vaccination) है। बच्चों को डीटीएपी (DTaP) और टीडीएपी (Tdap) टीकाकरण का पूरा कोर्स लेना चाहिए। वयस्कों को भी टीडीएपी बूस्टर शॉट लेने की सलाह दी जाती है, खासकर उन लोगों को जो छोटे बच्चों के आसपास रहते हैं।

काली खांसी से बचाव के अन्य उपायों में शामिल हैं:

  • बार-बार हाथ धोना
  • संक्रमित व्यक्ति के निकट संपर्क से बचना
  • खांसते या छींकते समय मुंह और नाक को ढंकना

इलाज (Treatment)

काली खांसी का इलाज एंटीबायोटिक दवाओं से किया जाता है। ये दवाएं संक्रमण को कम करने और दूसरों को बीमारी फैलने से रोकने में मदद करती हैं।

यदि आपको लगता है कि आपको या आपके बच्चे को काली खांसी हो सकती है, तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। जल्द इलाज शुरू करने से गंभीर जटिलताओं के खतरे को कम किया जा सकता है।

घरेलू उपचार (Home remedies)

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि घरेलू उपचार काली खांसी का इलाज नहीं कर सकते हैं। हालांकि, कुछ घरेलू उपचार खांसी के लक्षणों को कम करने में मदद कर सकते हैं, जिनमें शामिल हैं:

  • गुनगुना ह्यूमिडिफायर का उपयोग करना
  • गर्म नमक का पानी पीना
  • शहद (एक वर्ष से अधिक उम्र के बच्चों के लिए)
  • पर्याप्त आराम करना

Read more on:- jansamuh.Com

By kamal

One thought on “काली खांसी का घातक हमला! जानिए कैसे बचाएं अपने बच्चों को ?”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *